Stephen Hawking Biography | स्टीफन हॉकिंग की जीवनी | Stephen Hawking Death

0
21

स्टीफन विलियम हॉकिंग एक विश्व प्रसिद्ध ब्रिटिश भौतिक विज्ञानीक, ब्रह्माण्ड विज्ञानीक, लेखक और कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में सैद्धांतिक ब्रह्मांड विज्ञान केन्द्र (Centre for Theoretical Cosmology) के शोध निर्देशक थे |

Stephen Hawking Biography | स्टीफन हॉकिंग की जीवनी | Stephen Hawking Death

स्टीफ़न हॉकिंग का जनम 8 जनवरी, 1942 को इंग्लैंड में सेंकड वर्ल्ड वॉर के समय फ्रेंक और इसाबेल हॉकिंग के घर में हुआ। गैलीलियो की मृत्यु के ठीक 300 साल बाद हॉकिंग का जन्म हुआ था। परिवार की आर्थिक स्तिथि बेहाल होने के बावजूद, माता पिता दोनों की शिक्षा ऑक्सफ़र्ड विश्वविद्यालय में हुई जहाँ उनके पिता फ्रेंक ने दवाइयों की शिक्षा प्राप्त की और उनकी माँ इसाबेल ने दर्शनशास्त्र, राजनीति और अर्थशास्त्र का अध्ययन किया।

stephen_hawking

बेहद दिलचस्प बात यह है कि स्टीफन गणित विषय में अध्ययन करना चाहते थे, लेकिन उनके पिता ने उन्हें मेडिकल से जुड़ने की सलाह दी। यूनिवर्सिटी कॉलेज में गणित उपलब्ध नहीं था ऐसे में उन्होंने फिजिक्स और केमिस्ट्री को चुना और तीन साल बाद उन्हें नैचरल साइंस में फर्स्ट क्लास ऑनर्स डिग्री मिली।

1963 में स्टीफन हॉकिंग जब सिर्फ 21 साल के थे, तब उन्हें Amyotrophic Lateral Sclerosis (ALS) motor neurone disease नाम की बीमारी हो गई। इसके चलते उनके अधिकतर अंगों ने धीरे-धीरे काम करना बंद कर दिया था। इस बीमारी से पीड़ित लोग आमतौर पर 2 से 5 साल तक ही जिंदा रह पाते हैं, लेकिन स्टीफन हॉकिंग दशकों तक जिए।

प्रफेसर स्टीफन हॉकिंग ने 1965 में ‘प्रॉपर्टीज ऑफ एक्सपैंडिंग यूनिवर्सेज’ विषय पर अपनी पीएचडी पूरी की थी।

बीमार होने के बाद भी उन्होंने अपनी पढ़ाई को जारी रखा और तमाम चौंकाने वाले शोध दुनिया के सामने रखे।
स्टीफन हॉकिंग एक कस्टम इलेक्ट्रिक व्हीलचेयर पर चलते थे और दुसरो से बात करने के लिए वे एक विशेष आवाज़ मॉड्यूल का इस्तेमाल करते थे |

1988 में उन्हें सबसे ज्यादा चर्चा मिली थी, जब उनकी पहली पुस्तक ‘ए ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ टाइम: फ्रॉम द बिग बैंग टु ब्लैक होल्स‘ मार्केट में आई।
इसके बाद कॉस्मोलॉजी पर आई उनकी पुस्तक की 1 करोड़ से ज्यादा प्रतियां बिकी थीं। इसे दुनिया भर में साइंस से जुड़ी सबसे ज्यादा बिकने वाली पुस्तक माना जाता है।

अपनी सफलता का राज बताते हुए मशहूर वैज्ञानिक हॉकिंग ने कहा था कि उनकी बीमारी ने उन्हें वैज्ञानिक बनाने में सबसे बड़ी भूमिका अदा की है। बीमारी से पहले वह अपनी पढ़ाई पर ज्यादा ध्यान नहीं देते थे लेकिन बीमारी के दौरान उन्हें लगने लगा कि वे लंबे समय तक जिंदा नहीं रहेंगे तो उन्होंने अपना सारा ध्यान रिसर्च पर लगा दिया।

वह हमेशा लेक्चर के दौरान कहा करते थे इंसान को हमेशा सितारों की तरफ देखना चाहिए न कि अपने पैरों की ओर। सितारे आपको आगे बढ़ने की शक्ति देते हैं। वहीं वह यह भी कहा करते थे कि जिंदगी में कोई भी काम छोटा नहीं होता है बल्कि काम ही आपको जीने का मकसद देता है। अगर किसी आदमी की जिंदगी में काम नहीं होता है तो उसकी जिंदगी में जीने का कोई मकसद नहीं होता है।

2014 में स्टीफन हॉकिंग की प्रेरक जिंदगी पर आधारित फिल्म ‘द थिअरी ऑफ एवरीथिंग’ रिलीज हुई थी।

Stephen Hawking Death

14 march 2018 को हॉकिंग के पुत्र लकी, रॉबर्ट और टिम ने कहा कि हमें अत्यंत दुख के साथ सूचित करना पड़ रहा है कि हमारे प्यारे पिता अब इस दुनिया में नहीं रहे। वह अक महान वैज्ञानिक तो थे ही एक महान इंसान भी थे जिसने विज्ञान की दुनिया में इतना काम किया है जिसे दुनिया सदियों तक याद रखेगी। उनकी हिम्मत, खोज, और खुशमिजाजी से पूरी दुनिया प्रभावित रहेगी ।

देखिये स्टीफन हॉकिंग की जीवनी इस विडियो में :-

Leave a Reply